ishq

Ishq shayari, Teri awaz tere roop ki

चाहत के ये कैसे अफ़साने हुए;
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए;
अब दुनिया की नहीं कोई परवाह हमें;
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।
chaahat ke ye kaise afasaane hue;
khud nazaron mein apanee begaane hue;
ab duniya kee nahin koee paravaah hamen;
ishq mein tere is kadar deevaane hue.

तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है;
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है;
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें;
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।
teree aavaaz tere roop kee pahachaan hai;
tere dil kee dhadakan mein dil kee jaan hai;
na sunoon jis din teree baaten;
lagata hai us roz ye jism bejaan hai.

Read More
Ishq shayari

Ishq shayari, Bewajah ham wajah dhudte hain

बेवजह हम वजह ढूंढ़ते हैं तेरे पास आने को;
ये दिल बेकरार है तुझे धड़कन में बसाने को;
बुझी नहीं प्यास इन होंठों की अभी;
न जाने कब मिलेगा सुकून तेरे इस दीवाने को।
bevajah ham vajah dhoondhate hain tere paas aane ko;
ye dil bekaraar hai tujhe dhadakan mein basaane ko;
bujhee nahin pyaas in honthon kee abhee;
na jaane kab milega sukoon tere is deevaane ko.

आईने में भी खुद को झांक कर देखा;
खुद को भी हमने तनहा करके देखा;
पता चल गया हमें कितनी मोहब्बत है आपसे;
जब तेरी याद को दिल से जुदा करके देखा।
aaeene mein bhee khud ko jhaank kar dekha;
khud ko bhee hamane tanaha karake dekha;
pata chal gaya hamen kitanee mohabbat hai aapase;
jab teree yaad ko dil se juda karake dekha.

Read More

Ishq shayari, Sangmarmar ke mahal mein

तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे;
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे;
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो;
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।
tere pyaar ka sila har haal mein denge;
khuda bhee maange ye dil to taal denge;
agar dil ne kaha tum bevafa ho;
to is dil ko bhee seene se nikaal denge.

तुम बिन ज़िंदगी सूनी सी लगती है;
हर पल अधूरी सी लगती है;
अब तो इन साँसों को अपनी साँसों से जोड़ दे;
क्योंकि अब यह ज़िंदगी कुछ पल की मेहमान सी लगती है।
tum bin zindagee soonee see lagatee hai;
har pal adhooree see lagatee hai;
ab to in saanson ko apanee saanson se jod de;
kyonki ab yah zindagee kuchh pal kee mehamaan see lagatee hai.

Read More

Ishq shayari, Ishq wahi hai jo ho ek tarfa

इश्क़ वही है जो हो एक तरफा,
इज़हार-ऐ-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो,
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है।
Ishq vahee hai jo ho ek tarapha,
Izahaar-E-Ishq to khvaahish ban jaatee hai,
hai agar mohabbat to aankhon mein padh lo,
zubaan se izahaar to numaish ban jaatee hai.

दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़,
सैर जन्नत की करा देता है इश्क़,
मरीज हो अगर दिल के तो कर लो इश्क़,
क्योंकि धड़कना दिलों को सिखा देता है इश्क़।
divaana har shakhs ko bana deta hai ishq,
sair jannat kee kara deta hai ishq,
mareej ho agar dil ke to kar lo ishq,
kyonki dhadakana dilon ko sikha deta hai ishq.

Read More

Ishq shayari, ye kaatil sardee

एक तो ये कातिल सर्दी, ऊपर से तेरी यादों की धुंध,
बड़ा बेहाल कर रखा है, इश्क के मौसमों ने मुझे।
ek to ye kaatil sardee, oopar se teree yaadon kee dhundh,
bada behaal kar rakha hai, ishk ke mausamon ne mujhe.

चलते थे इस जहाँ में कभी… सीना तान के हम,
ये कम्बख्त इश्क़ क्या हुआ घुटनो पे आ गए हम।
chalate the is jahaan mein kabhee… seena taan ke ham,
ye kambakht ishq kya hua ghutano pe aa gae ham.

रिश्वत भी नहीं लेता कमबख्त जान छोड़ने की,
ऐ सनम ये तेरा इश्क मुझे बहुत ईमानदार लगता है।
rishvat bhee nahin leta kamabakht jaan chhodane kee,
ai sanam ye tera ishk mujhe bahut eemaanadaar lagata hai.

Read More