Gila shikwa

Gila shikwa shayari, Mujhe sata ke vo

जाने किस बात की उनको शिकायत है मुझसे,
नाम तक जिनका नहीं मेरे अफ़साने में।
jaane kis baat kee unako shikaayat hai mujhase,
naam tak jinaka nahin mere afasaane mein

तकदीर ने जैसे चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत सभल कर चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने यकीन तोड़ा तो किसी ने हमारा दिल,
और लोगों को लगता है बदल गए हम।
takadeer ne jaise chaaha vaise dhal gae ham,
bahut sabhal kar chale phir bhee phisal gae ham,
kisee ne yakeen toda to kisee ne hamaara dil,
aur logon ko lagata hai badal gae ham.

Read More

Gila shikwa shayari, Abhi myaan me talwar

मैं शिकवा करूँ भी तो किस से करूँ,
अपना ही मुकद्दर है अपनी ही लकीरें हैं।
main shikava karoon bhee to kis se karoon,
apana hee mukaddar hai apanee hee lakeeren hain.

कोई मिला ही नहीं
जिसको सौपते मोशिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू,
ख्याल का मौसम।
koee mila hee nahin
jisako saupate moshin,
ham apane khvaab kee khushaboo,
khyaal ka mausam.

Read More

Gila shikwa shayari, Ye mat kahna ke

मत पूछ शीशे से उसके टूटने कि वजह,
उसने भी किसी पत्थर को अपना समझा होगा।
mat poochh sheeshe se usake tootane ki vajah,
usane bhee kisee patthar ko apana samajha hoga.

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बरबाद हो गए हम उनके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।
dard hai dil mein par isaka ehasaas nahin hota,
rota hai dil jab vo paas nahin hota,
barabaad ho gae ham unake pyaar mein,
aur vo kahate hain is tarah pyaar nahin hota.

Read More

Intezaar shayari, Tadapti hai aaj bhi rooh

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
vo rukhsat huee to aankh milaakar nahin gaee,
vo kyon gaee yah bataakar nahin gaee,
lagata hai vaapis abhee laut aaegee,
vo jaate hue chiraag bujhaakar nahin gaee.

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।
Tadapatee hai aaj bhee rooh aadhee raat ko,
nikal padate hain aankh se aansoo aadhee raat ko,
intazaar mein tere varshon beet gae sanam mere,
dil ko hai aas aaegee too aadhee raat ko.

Read More

Intezaar shayari, Uss nazar ko mat dekho

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।
bhale hee raah chalaton ka daaman thaam le,
magar mere pyaar ko bhee too pahachaan le,
kitana intazaar kiya hai tere ishq mein,
zara yah dil kee betaabee too bhee jaan le.

मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं,
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं,
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में,
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
mohabbat ka imtihaan aasaan nahin,
pyaar sirph paane ka naam nahin,
muddaten beet jaatee hai kisee ke intazaar mein,
yah sirph pal do pal ka kaam nahin

उस नज़र को मत देखो,
जो आपको देखने से इनकार करती है,
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।
us nazar ko mat dekho,
jo aapako dekhane se inakaar karatee hai,
duniyaan kee bheed mein us nazar ko dekho,
jo sirph aapaka intajaar karatee hai.

Read More

Intezaar shayari, Nazron ko teri mohabbat se

तुम लौट के आओगे हम से मिलने,
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गयी,
तेरे वादे पर क्या भरोसा किया,
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गयी।
tum laut ke aaoge ham se milane,
roj dil ko bahalaane kee aadat ho gayee,
tere vaade par kya bharosa kiya,
har shaam tera intazaar karane kee aadat ho gayee.

नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है,
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है,
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा,
मगर तुम ये न समझना कि मुझे प्यार नहीं है।
nazaron ko teree mohabbat se inkaar nahin hai,
ab mujhe kisee ka intajaar nahin hai,
khaamosh agar hoon ye andaaj hai mera,
magar tum ye na samajhana ki mujhe pyaar nahin hai.

Read More

Bewafa shayari, kabhi gam to kabhi tanhai

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी.
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।
kabhee gam to kabhee tanhaee maar gayee,
kabhee yaad aa kar unakee judaee maar gayee.
bahut toot kar chaaha jisako hamane,
aakhir mein unakee hee bevaphaee maar gayee.

हर धड़कन में एक राज़ होता है,
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है,
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की,
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।
har dhadakan mein ek raaz hota hai,
baat ko bataane ka bhee ek andaaz hota hai,
jab tak na lage thokar bevaafaee kee,
har kisee ko apane pyaar par naaz hota hai.

मजबूरी में जब कोई जुदा होता है,
जरुरी नहीं की वो बेवफा होता है,
दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है।
majabooree mein jab koee juda hota hai,
jaruree nahin kee vo bevapha hota hai,
de kar vo aapakee aankhon mein aansoo,
akele mein aapase bhee jyaada rota hai.

Read More

Bewafa shayari, Dard hi sahi

किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा कयामत की निशानी है।
kisee ka rooth jaana aur achaanak bevapha hona,
mohabbat mein yahee lamha kayaamat kee nishaanee hai.

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।
tera khyaal dil se mitaaya nahin abhee,
bevapha mainne tujhako bhulaaya nahin abhee.

दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया,
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।
dard hee sahee mere ishq ka inaam to aaya,
khaalee hee sahee hothon tak jaam to aaya,
main hoon bevapha sabako bataaya usane,
yoon hee sahee chalo usake labon par mera naam to aaya.

Read More

Bewafa shayari, Teri wafa ke takaje

फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने,
उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने,
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी,
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने।
farz tha jo mera nibha diya mainne,
usane maanga vo sab de diya mainne,
vo sunake gairon kee baaten bevafa ho gayee,
samajh ke khvaab usako aakhir bhula diya mainne.

मेरी तलाश का जुर्म है या मेरी वफा का क़सूर,
जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।
meree talaash ka jurm hai ya meree vapha ka qasoor,
jo dil ke kareeb aaya vahee bevapha nikala.

तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना,
मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।
teree vafa ke takaaje badal gaye varana,
mujhe to aaj bhee tujhase ajeej koee nahin

Read More

Bewafa shayari, Insan ke kandho par

इंसान के कंधो पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा हुआ अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफाई मोहब्बत में,
वफ़ा कि तलास में शमसान जा रहा था।
insaan ke kandho par insaan ja raha tha,
kafan mein lipata hua aramaan ja raha tha,
jise bhee milee bevaphaee mohabbat mein,
vafa ki talaas mein shamasaan ja raha tha.

न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है।
na poochh mere sabr kee intahaan kahaan tak hai,
too sitam kar le teree hasarat jahaan tak hai,
vafa kee ummeed jinhen hogee unhen hogee,
hame to dekhana hai too bevapha kahaan tak hai.

Read More