Bewafa shayari, Dard hi sahi

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी,
बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।

tera khyaal dil se mitaaya nahin abhee,
bevapha mainne tujhako bhulaaya nahin abhee.

दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया,
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया।

dard hee sahee mere ishq ka inaam to aaya,
khaalee hee sahee hothon tak jaam to aaya,
main hoon bevapha sabako bataaya usane,
yoon hee sahee chalo usake labon par mera naam to aaya.

मेरा इल्ज़ाम है तुझ पर कि तू बेवफा था,
दोष तो तेरा था मगर तू हमेशा ही खफा था,
ज़िन्दगी की इस किताब में बयान है तेरी मेरी कहानी,
यादों से सराबोर उसका एक एक सफा था।

mera ilzaam hai tujh par ki too bevapha tha,
dosh to tera tha magar too hamesha hee khapha tha,
zindagee kee is kitaab mein bayaan hai teree meree kahaanee,
yaadon se saraabor usaka ek ek sapha tha.


अगर दुनिया में जीने की चाहत न होती,
तो खुदा ने मोहब्बत बनायी न होती,
इस तरह लोग मरने की आरजू न करते,
अगर मोहब्बत में किसी की बेवफाई न होती।

agar duniya mein jeene kee chaahat na hotee,
to khuda ne mohabbat banaayee na hotee,
is tarah log marane kee aarajoo na karate,
agar mohabbat mein kisee kee bevaphaee na hotee.


किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना,
मोहब्बत में यही लम्हा कयामत की निशानी है।

kisee ka rooth jaana aur achaanak bevapha hona,
mohabbat mein yahee lamha kayaamat kee nishaanee hai.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

8 Comments on “Bewafa shayari, Dard hi sahi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *