Bewafa shayari, Insan ke kandho par

इंसान के कंधो पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा हुआ अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफाई मोहब्बत में,
वफ़ा कि तलास में शमसान जा रहा था।

insaan ke kandho par insaan ja raha tha,
kafan mein lipata hua aramaan ja raha tha,
jise bhee milee bevaphaee mohabbat mein,
vafa ki talaas mein shamasaan ja raha tha.

जानकार भी तुम मुझे जान ना पाए,
आजतक तुम मुझे पहचान ना पाए,
खुद ही की है बेवाफाई तुमने हमसे,
ताकि तुम पर इल्ज़ाम ना आए।

jaanakaar bhee tum mujhe jaan na pae,
aajatak tum mujhe pahachaan na pae,
khud hee kee hai bevaaphaee tumane hamase,
taaki tum par ilzaam na aae.


वो तो दिवानी थी मुझे तन्हां छोड़ गयी,
खुद न रुकी तो अपना साया छोड़ गयी,
दुख न सही गम इस बात का है,
आंखो से करके वादा होंठो से तोड़ गयी।

vo to divaanee thee mujhe tanhaan chhod gayee,
khud na rukee to apana saaya chhod gayee,
dukh na sahee gam is baat ka hai,
aankho se karake vaada hontho se tod gayee.


न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है।

na poochh mere sabr kee intahaan kahaan tak hai,
too sitam kar le teree hasarat jahaan tak hai,
vafa kee ummeed jinhen hogee unhen hogee,
hame to dekhana hai too bevapha kahaan tak hai.


बेवफा तो वो खुद हैं,
पर इल्ज़ाम किसी और को देते हैं,
पहले नाम था मेरा उनके लबों पर,
अब वो नाम किसी और का लेते हैं।

bevapha to vo khud hain,
par ilzaam kisee aur ko dete hain,
pahale naam tha mera unake labon par,
ab vo naam kisee aur ka lete hain.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

4 Comments on “Bewafa shayari, Insan ke kandho par”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *