Bewafa shayari, kabhi gam to kabhi tanhai

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी.
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

kabhee gam to kabhee tanhaee maar gayee,
kabhee yaad aa kar unakee judaee maar gayee.
bahut toot kar chaaha jisako hamane,
aakhir mein unakee hee bevaphaee maar gayee.


वफ़ा करने से मुकर गया है दिल,
अब प्यार करने से डर गया है दिल,
अब किसी सहारे की बात मत करना,
झूठे दिलासों से भर गया है अब यह दिल।

vafa karane se mukar gaya hai dil,
ab pyaar karane se dar gaya hai dil,
ab kisee sahaare kee baat mat karana,
jhoothe dilaason se bhar gaya hai ab yah dil.

हर धड़कन में एक राज़ होता है,
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है,
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की,
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।

har dhadakan mein ek raaz hota hai,
baat ko bataane ka bhee ek andaaz hota hai,
jab tak na lage thokar bevaafaee kee,
har kisee ko apane pyaar par naaz hota hai.


हर पल कुछ सोचते रहने की आदत हो गयी है,
हर आहट पे चौंक जाने की आदत हो गयी है,
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग,
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

har pal kuchh sochate rahane kee aadat ho gayee hai,
har aahat pe chaunk jaane kee aadat ho gayee hai,
tere ishq mein ai bevapha, hijr kee raaton ke sang,
hamako bhee jaagate rahane kee aadat ho gayee hai


मजबूरी में जब कोई जुदा होता है,
जरुरी नहीं की वो बेवफा होता है,
दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है।

majabooree mein jab koee juda hota hai,
jaruree nahin kee vo bevapha hota hai,
de kar vo aapakee aankhon mein aansoo,
akele mein aapase bhee jyaada rota hai.


Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *