Bewafa shayari, Teri wafa ke takaje

ना जाने क्या सोच कर लहरें साहिल से टकराती हैं,
और फिर समंदर में लौट जाती हैं,
समझ नहीं आता कि किनारों से बेवफाई करती हैं,
या फिर लौट कर समंदर से वफ़ा निभाती हैं।

na jaane kya soch kar laharen saahil se takaraatee hain,
aur phir samandar mein laut jaatee hain,
samajh nahin aata ki kinaaron se bevaphaee karatee hain,
ya phir laut kar samandar se vafa nibhaatee hain.

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था,
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था,
महोब्बत में मिली थी बेवफाई उसे भी शायद,
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।

vo paanee kee laharon pe kya likh raha tha,
khuda jaane haraph-ai-dua likh raha tha,
mahobbat mein milee thee bevaphaee use bhee shaayad,
isalie har shakhs ko shaayad bevapha likh raha tha.


तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना,
मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।

teree vafa ke takaaje badal gaye varana,
mujhe to aaj bhee tujhase ajeej koee nahin


ना मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते,
दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते,
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला,
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।

na milata gam to barbaadee ke aphasaane kahaan jaate,
duniya agar hotee chaman to veeraane kahaan jaate,
chalo achchha hua apanon mein koee gair to nikala,
sabhee agar apane hote to begaane kahaan jaate.


मेरी तलाश का जुर्म है या मेरी वफा का क़सूर,
जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।

meree talaash ka jurm hai ya meree vapha ka qasoor,
jo dil ke kareeb aaya vahee bevapha nikala.


फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने,
उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने,
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी,
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने।

farz tha jo mera nibha diya mainne,
usane maanga vo sab de diya mainne,
vo sunake gairon kee baaten bevafa ho gayee,
samajh ke khvaab usako aakhir bhula diya mainne.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *