Bewafa shayari, Insan ke kandho par

इंसान के कंधो पर इंसान जा रहा था,
कफ़न में लिपटा हुआ अरमान जा रहा था,
जिसे भी मिली बेवफाई मोहब्बत में,
वफ़ा कि तलास में शमसान जा रहा था।
insaan ke kandho par insaan ja raha tha,
kafan mein lipata hua aramaan ja raha tha,
jise bhee milee bevaphaee mohabbat mein,
vafa ki talaas mein shamasaan ja raha tha.

न पूछ मेरे सब्र की इन्तहां कहाँ तक है,
तू सितम कर ले तेरी हसरत जहाँ तक है,
वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी उन्हें होगी,
हमे तो देखना है तू बेवफा कहाँ तक है।
na poochh mere sabr kee intahaan kahaan tak hai,
too sitam kar le teree hasarat jahaan tak hai,
vafa kee ummeed jinhen hogee unhen hogee,
hame to dekhana hai too bevapha kahaan tak hai.

Read More