Bewafa shayari, kabhi gam to kabhi tanhai

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी,
कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी.
बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने,
आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।
kabhee gam to kabhee tanhaee maar gayee,
kabhee yaad aa kar unakee judaee maar gayee.
bahut toot kar chaaha jisako hamane,
aakhir mein unakee hee bevaphaee maar gayee.

हर धड़कन में एक राज़ होता है,
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है,
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की,
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।
har dhadakan mein ek raaz hota hai,
baat ko bataane ka bhee ek andaaz hota hai,
jab tak na lage thokar bevaafaee kee,
har kisee ko apane pyaar par naaz hota hai.

मजबूरी में जब कोई जुदा होता है,
जरुरी नहीं की वो बेवफा होता है,
दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है।
majabooree mein jab koee juda hota hai,
jaruree nahin kee vo bevapha hota hai,
de kar vo aapakee aankhon mein aansoo,
akele mein aapase bhee jyaada rota hai.

Read More