Bewafa shayari, Teri wafa ke takaje

फ़र्ज़ था जो मेरा निभा दिया मैंने,
उसने माँगा वो सब दे दिया मैंने,
वो सुनके गैरों की बातें बेवफ़ा हो गयी,
समझ के ख्वाब उसको आखिर भुला दिया मैंने।
farz tha jo mera nibha diya mainne,
usane maanga vo sab de diya mainne,
vo sunake gairon kee baaten bevafa ho gayee,
samajh ke khvaab usako aakhir bhula diya mainne.

मेरी तलाश का जुर्म है या मेरी वफा का क़सूर,
जो दिल के करीब आया वही बेवफा निकला।
meree talaash ka jurm hai ya meree vapha ka qasoor,
jo dil ke kareeb aaya vahee bevapha nikala.

तेरी वफ़ा के तकाजे बदल गये वरना,
मुझे तो आज भी तुझसे अजीज कोई नहीं।
teree vafa ke takaaje badal gaye varana,
mujhe to aaj bhee tujhase ajeej koee nahin

Read More