Gila shikwa shayari, Abhi myaan me talwar

मैं शिकवा करूँ भी तो किस से करूँ,
अपना ही मुकद्दर है अपनी ही लकीरें हैं।
main shikava karoon bhee to kis se karoon,
apana hee mukaddar hai apanee hee lakeeren hain.

कोई मिला ही नहीं
जिसको सौपते मोशिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू,
ख्याल का मौसम।
koee mila hee nahin
jisako saupate moshin,
ham apane khvaab kee khushaboo,
khyaal ka mausam.

Read More