Gila shikwa

Gila shikwa shayari, Mujhe sata ke vo

जाने किस बात की उनको शिकायत है मुझसे,
नाम तक जिनका नहीं मेरे अफ़साने में।
jaane kis baat kee unako shikaayat hai mujhase,
naam tak jinaka nahin mere afasaane mein

तकदीर ने जैसे चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत सभल कर चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने यकीन तोड़ा तो किसी ने हमारा दिल,
और लोगों को लगता है बदल गए हम।
takadeer ne jaise chaaha vaise dhal gae ham,
bahut sabhal kar chale phir bhee phisal gae ham,
kisee ne yakeen toda to kisee ne hamaara dil,
aur logon ko lagata hai badal gae ham.

Read More