Gila shikwa shayari, Ye mat kahna ke

मत पूछ शीशे से उसके टूटने कि वजह,
उसने भी किसी पत्थर को अपना समझा होगा।
mat poochh sheeshe se usake tootane ki vajah,
usane bhee kisee patthar ko apana samajha hoga.

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बरबाद हो गए हम उनके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।
dard hai dil mein par isaka ehasaas nahin hota,
rota hai dil jab vo paas nahin hota,
barabaad ho gae ham unake pyaar mein,
aur vo kahate hain is tarah pyaar nahin hota.

Read More