Intezaar shayari, Nazron ko teri mohabbat se

तुम लौट के आओगे हम से मिलने,
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गयी,
तेरे वादे पर क्या भरोसा किया,
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गयी।
tum laut ke aaoge ham se milane,
roj dil ko bahalaane kee aadat ho gayee,
tere vaade par kya bharosa kiya,
har shaam tera intazaar karane kee aadat ho gayee.

नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है,
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है,
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा,
मगर तुम ये न समझना कि मुझे प्यार नहीं है।
nazaron ko teree mohabbat se inkaar nahin hai,
ab mujhe kisee ka intajaar nahin hai,
khaamosh agar hoon ye andaaj hai mera,
magar tum ye na samajhana ki mujhe pyaar nahin hai.

Read More