Intezaar shayari, Uss nazar ko mat dekho

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।
bhale hee raah chalaton ka daaman thaam le,
magar mere pyaar ko bhee too pahachaan le,
kitana intazaar kiya hai tere ishq mein,
zara yah dil kee betaabee too bhee jaan le.

मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं,
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं,
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में,
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
mohabbat ka imtihaan aasaan nahin,
pyaar sirph paane ka naam nahin,
muddaten beet jaatee hai kisee ke intazaar mein,
yah sirph pal do pal ka kaam nahin

उस नज़र को मत देखो,
जो आपको देखने से इनकार करती है,
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।
us nazar ko mat dekho,
jo aapako dekhane se inakaar karatee hai,
duniyaan kee bheed mein us nazar ko dekho,
jo sirph aapaka intajaar karatee hai.

Read More