Intezaar shayari, unka wada hai

ख़्वाबों में जीने की जब आदत पड़ जाती है,
हक़ीक़त की दुनिया तब बे-रंग नज़र आती है,
कोई इंतज़ार करता है मोहब्बत का,
तो किसी की मोहब्बत इंतज़ार बन जाती है।
khvaabon mein jeene kee jab aadat pad jaatee hai,
haqeeqat kee duniya tab be-rang nazar aatee hai,
koee intazaar karata hai mohabbat ka,
to kisee kee mohabbat intazaar ban jaatee hai.

नादान इनकी बातो का एतबार ना कर,
भूलकर भी इन जालिमो से प्यार ना कर,
वो क़यामत तक तेरे पास ना आयेंगे,
इनके आने का तू इन्तजार ना कर।
naadaan inakee baato ka etabaar na kar,
bhoolakar bhee in jaalimo se pyaar na kar,
vo qayaamat tak tere paas na aayenge,
inake aane ka too intajaar na kar.

Read More