Ishq shayari, Ishq wahi hai jo ho ek tarfa

इश्क़ वही है जो हो एक तरफा,
इज़हार-ऐ-इश्क़ तो ख्वाहिश बन जाती है,
है अगर मोहब्बत तो आँखों में पढ़ लो,
ज़ुबान से इज़हार तो नुमाइश बन जाती है।
Ishq vahee hai jo ho ek tarapha,
Izahaar-E-Ishq to khvaahish ban jaatee hai,
hai agar mohabbat to aankhon mein padh lo,
zubaan se izahaar to numaish ban jaatee hai.

दिवाना हर शख़्स को बना देता है इश्क़,
सैर जन्नत की करा देता है इश्क़,
मरीज हो अगर दिल के तो कर लो इश्क़,
क्योंकि धड़कना दिलों को सिखा देता है इश्क़।
divaana har shakhs ko bana deta hai ishq,
sair jannat kee kara deta hai ishq,
mareej ho agar dil ke to kar lo ishq,
kyonki dhadakana dilon ko sikha deta hai ishq.

Read More