ishq shayari

Ishq shayari, ek baat puchhen

हम भी बिकने गए थे बाज़ार-ऐ-इश्क में,
क्या पता था वफ़ा करने वालों को लोग ख़रीदा नहीं करते।
ham bhee bikane gae the baazaar-ai-ishk mein,
kya pata tha vafa karane vaalon ko log khareeda nahin karate.

ये भी एक तमाशा है, इश्क और मोहब्बत में दोस्त,
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है।
ye bhee ek tamaasha hai, ishk aur mohabbat mein dost,
dil kisee ka hota hai aur bas kisee ka chalata hai.

Read More