ishq shayari

Ishq shayari, Gili lakdi sa ishq

गीली लकड़ी सा इश्क उन्होंने सुलगाया है,
ना पूरा जल पाया कभी, ना बुझ पाया है।
geelee lakdi sa ishq unhonne sulagaaya hai,
na poora jal paaya kabhee, na bujh paaya hai.

तेरे ख़त में इश्क़ की गवाही आज भी है,
हर्फ़ धुंधले हो गए हैं मगर स्याही आज भी है।
tere khat mein ishq kee gavaahee aaj bhee hai,
harf dhundhale ho gae hain magar syaahee aaj bhee hai.

Read More