ishq

Ishq shayari, Teri awaz tere roop ki

चाहत के ये कैसे अफ़साने हुए;
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए;
अब दुनिया की नहीं कोई परवाह हमें;
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।
chaahat ke ye kaise afasaane hue;
khud nazaron mein apanee begaane hue;
ab duniya kee nahin koee paravaah hamen;
ishq mein tere is kadar deevaane hue.

तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है;
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है;
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें;
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।
teree aavaaz tere roop kee pahachaan hai;
tere dil kee dhadakan mein dil kee jaan hai;
na sunoon jis din teree baaten;
lagata hai us roz ye jism bejaan hai.

Read More