Gila shikwa shayari, Abhi myaan me talwar

अभी म्यान में तलवार मत रख अपनी,
अभी तो शहर में एक बे-क़सूर बाकी है।

abhee myaan mein talavaar mat rakh apanee,
abhee to shahar mein ek be-qasoor baakee hai.

मैं शिकवा करूँ भी तो किस से करूँ,
अपना ही मुकद्दर है अपनी ही लकीरें हैं।

main shikava karoon bhee to kis se karoon,
apana hee mukaddar hai apanee hee lakeeren hain.


मैं अपनी चाहतों का हिसाब
जो लेने बैठ जाऊं,
तो तुम मेरा सिर्फ याद करना भी
न लौटा सकोगे।

main apanee chaahaton ka hisaab
jo lene baith jaoon,
to tum mera sirph yaad karana bhee
na lauta sakoge.


कोई मिला ही नहीं
जिसको सौपते मोशिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू,
ख्याल का मौसम।

koee mila hee nahin
jisako saupate moshin,
ham apane khvaab kee khushaboo,
khyaal ka mausam.


सौ जान से हो जाऊंगा
राजी मैं सजा पर,
पहले वो मुझे अपना
गुनाहगार तो कर ले।

sau jaan se ho jaoonga
raajee main saja par,
pahale vo mujhe apana
gunaahagaar to kar le.




Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *