Intezaar shayari, Dil mein intezaar ki laqeer

दिल में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे,
आँखों में यादों की नमी छोड़ जायेंगे,
ढूंढ़ते फिरोगे हमें हर जगह एक दिन,
ज़िन्दगी में ऐसी अपनी कमी छोड़ जायेंगे।

Dil mein intazaar kee lakeer chhod jaayenge,
aankhon mein yaadon kee namee chhod jaayenge,
dhoondhate phiroge hamen har jagah ek din,
zindagee mein aisee apanee kamee chhod jaayenge.

चाँद सितारों से तेरी बात करते हैं,
तनहाईयों में तुझे याद करते हैं,
तुम आओ या ना आओ मर्ज़ी तुम्हारी,
हम तो हरपल तुम्हारा इंतजार करते हैं।

Chaand sitaaron se teree baat karate hain,
tanahaeeyon mein tujhe yaad karate hain,
tum aao ya na aao marzee tumhaaree,
ham to harapal tumhaara intajaar karate hain.


कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा,
अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा,
हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं,
क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा।

koee kyon mera intazaar karega,
apanee jindagee mere lie bekaar karega,
ham kaun se, kisee ke lie khaas hain,
kya sochakar koee hamen yaad karega.


जान से भी ज्यादा उन्हें प्यार किया करते थे,
याद उन्हे दिन रात किया करते थे,
अब उन राहों से गुजरा नही जाता,
जहाँ बैठ कर उनका इंतज़ार किया करते थे।

jaan se bhee jyaada unhen pyaar kiya karate the,
yaad unhe din raat kiya karate the,
ab un raahon se gujara nahee jaata,
jahaan baith kar unaka intazaar kiya karate the.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *