Intezaar shayari, Nazron ko teri mohabbat se

नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है,
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है,
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा,
मगर तुम ये न समझना कि मुझे प्यार नहीं है।

nazaron ko teree mohabbat se inkaar nahin hai,
ab mujhe kisee ka intajaar nahin hai,
khaamosh agar hoon ye andaaj hai mera,
magar tum ye na samajhana ki mujhe pyaar nahin hai.

तुझे देखना चाहती हूँ हर पल,
शायद तुझसे बहुत प्यार करती हूँ,
कल तक तो तुझे जानती भी न थी,
आज तेरा इंतज़ार करती हूँ।

tujhe dekhana chaahatee hoon har pal,
shaayad tujhase bahut pyaar karatee hoon,
kal tak to tujhe jaanatee bhee na thee,
aaj tera intazaar karatee hoon.


तेरे इंतज़ार में छोड़ा दुनिया का साथ,
तेरे इंतज़ार में छोड़ा अपनों का साथ,
जब तुझे जाना ही था तो क्यों दिया वादों का साथ,
रह गया अब मैं बस अपने ग़मों के साथ।

tere intazaar mein chhoda duniya ka saath,
tere intazaar mein chhoda apanon ka saath,
jab tujhe jaana hee tha to kyon diya vaadon ka saath,
rah gaya ab main bas apane gamon ke saath.


जिस के इक़रार का इंतज़ार था मुझे,
जाने क्यों उस से इतना प्यार था मुझे,
ऐ ख़ुदा आ ही गया वो हसीं पल,
जब उसने कहा तुमसे बहुत प्यार है मुझे।

jis ke iqaraar ka intazaar tha mujhe,
jaane kyon us se itana pyaar tha mujhe,
ai khuda aa hee gaya vo haseen pal,
jab usane kaha tumase bahut pyaar hai mujhe.


तुम लौट के आओगे हम से मिलने,
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गयी,
तेरे वादे पर क्या भरोसा किया,
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गयी।

tum laut ke aaoge ham se milane,
roj dil ko bahalaane kee aadat ho gayee,
tere vaade par kya bharosa kiya,
har shaam tera intazaar karane kee aadat ho gayee.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *