Intezaar shayari, Tadapti hai aaj bhi rooh

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।

Tadapatee hai aaj bhee rooh aadhee raat ko,
nikal padate hain aankh se aansoo aadhee raat ko,
intazaar mein tere varshon beet gae sanam mere,
dil ko hai aas aaegee too aadhee raat ko.

तड़प कर देखो किसी की चाहत में,
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है,
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो,
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है।

Tadap kar dekho kisee kee chaahat mein,
pata chalega intazaar kya hota hai,
yoon hee mil jaata bina koee tadape to,
kaise pata chalata ki pyaar kya hota hai.


तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं,
तेरा दीदार करने की चाह जगी है,
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता,
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में,
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।

tere intazaar mein yah nazaren jhukee hain,
tera deedaar karane kee chaah jagee hai,
na jaanoon tera naam, na tera pata,
phir bhee na jaane kyon is paagal dil mein,
ek azab see bechainee jagee hai.


वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।

vo rukhsat huee to aankh milaakar nahin gaee,
vo kyon gaee yah bataakar nahin gaee,
lagata hai vaapis abhee laut aaegee,
vo jaate hue chiraag bujhaakar nahin gaee.




Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *