Intezaar shayari, unka wada hai

उनका वादा है कि वो लौट आयेंगे,
इसी उम्मीद पर हम जिये जायेंगे,
ये इतंजार भी उन्ही की तरह प्यारा है,
कर रहे थे कर रहे हैं और किये जायेंगे।

unaka vaada hai ki vo laut aayenge,
isee ummeed par ham jiye jaayenge,
ye itanjaar bhee unhee kee tarah pyaara hai,
kar rahe the kar rahe hain aur kiye jaayenge.

ख़्वाबों में जीने की जब आदत पड़ जाती है,
हक़ीक़त की दुनिया तब बे-रंग नज़र आती है,
कोई इंतज़ार करता है मोहब्बत का,
तो किसी की मोहब्बत इंतज़ार बन जाती है।

khvaabon mein jeene kee jab aadat pad jaatee hai,
haqeeqat kee duniya tab be-rang nazar aatee hai,
koee intazaar karata hai mohabbat ka,
to kisee kee mohabbat intazaar ban jaatee hai.


तेरे बिना कैसे मेरी गुजरेंगी ये रातें,
तन्हाई का गम कैसे सहेंगी ये रातें,
बहुत लम्बी है ये घड़ियाँ इंतज़ार की,
करबट बदल-बदल कर काटेंगी ये रातें।

tere bina kaise meree gujarengee ye raaten,
tanhaee ka gam kaise sahengee ye raaten,
bahut lambee hai ye ghadiyaan intazaar kee,
karabat badal-badal kar kaatengee ye raaten


नादान इनकी बातो का एतबार ना कर,
भूलकर भी इन जालिमो से प्यार ना कर,
वो क़यामत तक तेरे पास ना आयेंगे,
इनके आने का तू इन्तजार ना कर।

naadaan inakee baato ka etabaar na kar,
bhoolakar bhee in jaalimo se pyaar na kar,
vo qayaamat tak tere paas na aayenge,
inake aane ka too intajaar na kar.


इंतज़ार तो बहुत था हमें,
लेकिन आये ना वो कभी,
हम तो बिन बुलाये ही आ जाते,
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।

intazaar to bahut tha hamen,
lekin aaye na vo kabhee,
ham to bin bulaaye hee aa jaate,
agar hota unhen bhee intazaar kabhee.




Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *