Intezaar shayari, Uss nazar ko mat dekho

उस नज़र को मत देखो,
जो आपको देखने से इनकार करती है,
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।

us nazar ko mat dekho,
jo aapako dekhane se inakaar karatee hai,
duniyaan kee bheed mein us nazar ko dekho,
jo sirph aapaka intajaar karatee hai.

फासला मिटा कर आपस में प्यार रखना,
हमारा यह रिश्ता हमेशा बरकरार रखना,
बिछड़ जाएं कभी आप से हम,
आँखों में हमेशा मेरा इंतज़ार रखना।

phaasala mita kar aapas mein pyaar rakhana,
hamaara yah rishta hamesha barakaraar rakhana,
bichhad jaen kabhee aap se ham,
aankhon mein hamesha mera intazaar rakhana


मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं,
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं,
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में,
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।

mohabbat ka imtihaan aasaan nahin,
pyaar sirph paane ka naam nahin,
muddaten beet jaatee hai kisee ke intazaar mein,
yah sirph pal do pal ka kaam nahin


खुद एक बार उसे यह एहसास दिला दे,
कितना इंतज़ार है ज़रा उसे बता दे,
हर पल देखते हैं रास्ता उसी का,
ना इंतज़ार करना पड़े, मुझे ऐसी नींद सुला दे।

khud ek baar use yah ehasaas dila de,
kitana intazaar hai zara use bata de,
har pal dekhate hain raasta usee ka,
na intazaar karana pade,
mujhe aisee neend sula de.


भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।

bhale hee raah chalaton ka daaman thaam le,
magar mere pyaar ko bhee too pahachaan le,
kitana intazaar kiya hai tere ishq mein,
zara yah dil kee betaabee too bhee jaan le.




Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *