Ishq shayari, Bewajah ham wajah dhudte hain

बेवजह हम वजह ढूंढ़ते हैं तेरे पास आने को;
ये दिल बेकरार है तुझे धड़कन में बसाने को;
बुझी नहीं प्यास इन होंठों की अभी;
न जाने कब मिलेगा सुकून तेरे इस दीवाने को।

bevajah ham vajah dhoondhate hain tere paas aane ko;
ye dil bekaraar hai tujhe dhadakan mein basaane ko;
bujhee nahin pyaas in honthon kee abhee;
na jaane kab milega sukoon tere is deevaane ko.

Ishq shayari

देख मेरी आँखों में ख्वाब किसके हैं;
दिल में मेरे सुलगते तूफ़ान किसके हैं;
नहीं गुज़रा कोई आज तक इस रास्ते से हो कर;
फिर ये क़दमों के निशान किसके हैं।

dekh meree aankhon mein khvaab kisake hain;
dil mein mere sulagate toofaan kisake hain;
nahin guzara koee aaj tak is raaste se ho kar;
phir ye qadamon ke nishaan kisake hain.


आईने में भी खुद को झांक कर देखा;
खुद को भी हमने तनहा करके देखा;
पता चल गया हमें कितनी मोहब्बत है आपसे;
जब तेरी याद को दिल से जुदा करके देखा।

aaeene mein bhee khud ko jhaank kar dekha;
khud ko bhee hamane tanaha karake dekha;
pata chal gaya hamen kitanee mohabbat hai aapase;
jab teree yaad ko dil se juda karake dekha.


फिर से वो सपना सजाने चला हूँ;
उमीदों के सहारे दिल लगाने चला हूँ;
पता है कि अंजाम बुरा ही होगा मेरा;
फिर भी किसी को अपना बनाने चला हूँ।

phir se vo sapana sajaane chala hoon;
umeedon ke sahaare dil lagaane chala hoon;
pata hai ki anjaam bura hee hoga mera;
phir bhee kisee ko apana banaane chala hoon.


ना दिल से होता है, ना दिमाग से होता है;
ये प्यार तो इत्तेफ़ाक़ से होता है;
पर प्यार करके प्यार ही मिले;
ये इत्तेफ़ाक़ भी किसी-किसी के साथ होता है।

na dil se hota hai, na dimaag se hota hai;
ye pyaar to ittefaaq se hota hai;
par pyaar karake pyaar hee mile;
ye ittefaaq bhee kisee-kisee ke saath hota hai.


Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 5]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *