Ishq shayari, ek baat puchhen

हम भी बिकने गए थे बाज़ार-ऐ-इश्क में,
क्या पता था वफ़ा करने वालों को लोग ख़रीदा नहीं करते।

ham bhee bikane gae the baazaar-ai-ishk mein,
kya pata tha vafa karane vaalon ko log khareeda nahin karate.

ishq shayari

एक बात पूछें तुमसे जरा दिल पर हाथ रखकर फरमायें
जो इश्क़ हमसे सीखा था अब वो किससे करते हो।

ek baat poochhen tumase jara dil par haath rakhakar pharamaayen
jo ishq hamase seekha tha ab vo kisase karate ho.


राह यूँ ही नामुक्क्मल, ग़म-ए-इश्क का फ़साना,
मुझ को नींद नहीं आयी, सो गया ज़माना।

raah yoon hee naamukkmal, gam-e-ishk ka fasaana,
mujh ko neend nahin aayee, so gaya zamaana.


बरसों से कायम है इश्क़ अपने उसूलों पर,
ये कल भी तकलीफ देता था और ये आज भी तकलीफ देता है।

barason se kaayam hai ishq apane usoolon par,
ye kal bhee takaleeph deta tha aur ye aaj bhee takaleeph deta hai.


ये भी एक तमाशा है, इश्क और मोहब्बत में दोस्त,
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है।

ye bhee ek tamaasha hai, ishk aur mohabbat mein dost,
dil kisee ka hota hai aur bas kisee ka chalata hai.




Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 4]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *