Ishq shayari, Sangmarmar ke mahal mein

संगमरमर के महल में तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा;
मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा;
यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल में बस जाऊंगा;
मैं तो प्यार का हूँ प्यासा जो तेरे आगोश में मर जाऊॅंगा।

sangamaramar ke mahal mein teree hee tasveer sajaoonga;
mere is dil mein ai pyaar tere hee khvaab sajaoonga;
yoon ek baar aajama ke dekh tere dil mein bas jaoonga;
main to pyaar ka hoon pyaasa jo tere aagosh mein mar jaaooainga.


तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे;
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे;
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो;
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।

tere pyaar ka sila har haal mein denge;
khuda bhee maange ye dil to taal denge;
agar dil ne kaha tum bevafa ho;
to is dil ko bhee seene se nikaal denge.

तुम बिन ज़िंदगी सूनी सी लगती है;
हर पल अधूरी सी लगती है;
अब तो इन साँसों को अपनी साँसों से जोड़ दे;
क्योंकि अब यह ज़िंदगी कुछ पल की मेहमान सी लगती है।

tum bin zindagee soonee see lagatee hai;
har pal adhooree see lagatee hai;
ab to in saanson ko apanee saanson se jod de;
kyonki ab yah zindagee kuchh pal kee mehamaan see lagatee hai.


यूँ तो तमन्नाएं दिल में ना थी हमें लेकिन;
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक़ बन बैठे;
बंदगी तो खुदा की भी करते थे लेकिन;
ना जाने क्यों हम काफ़िर बन बैठे।

yoon to tamannaen dil mein na thee hamen lekin;
na jaane tujhe dekhakar kyon aashiq ban baithe;
bandagee to khuda kee bhee karate the lekin;
na jaane kyon ham kaafir ban baithe.



Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 1]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *