Ishq shayari, Teri awaz tere roop ki

तेरी आवाज़ तेरे रूप की पहचान है;
तेरे दिल की धड़कन में दिल की जान है;
ना सुनूं जिस दिन तेरी बातें;
लगता है उस रोज़ ये जिस्म बेजान है।

teree aavaaz tere roop kee pahachaan hai;
tere dil kee dhadakan mein dil kee jaan hai;
na sunoon jis din teree baaten;
lagata hai us roz ye jism bejaan hai.


चाहत के ये कैसे अफ़साने हुए;
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए;
अब दुनिया की नहीं कोई परवाह हमें;
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए।

chaahat ke ye kaise afasaane hue;
khud nazaron mein apanee begaane hue;
ab duniya kee nahin koee paravaah hamen;
ishq mein tere is kadar deevaane hue.

ishq

प्यासी ये निगाहें तरसती रहती हैं;
तेरी याद में अक्सर बरसती रहती हैं;
हम तेरे ख्यालों में डूबे रहते हैं;
और ये ज़ालिम दुनिया हम पे हँसती रहती है।

pyaasee ye nigaahen tarasatee rahatee hain;
teree yaad mein aksar barasatee rahatee hain;
ham tere khyaalon mein doobe rahate hain;
aur ye zaalim duniya ham pe hansatee rahatee hai.


उसके चेहरे पर इस क़दर नूर था;
कि उसकी याद में रोना भी मंज़ूर था;
बेवफा भी नहीं कह सकते उसको ज़ालिम;
प्यार तो हमने किया है वो तो बेक़सूर था।

usake chehare par is qadar noor tha;
ki usakee yaad mein rona bhee manzoor tha;
bevapha bhee nahin kah sakate usako zaalim;
pyaar to hamane kiya hai vo to beqasoor tha.


इस दिल की हर धड़कन का एहसास हो तुम;
तुम क्या जानो हमारे लिए कितने ख़ास हो तुम;
जुदा होकर तुमने हमे मौत से भी बदतर सज़ा दी है;
फिर भी इस तड़पते हुए दिल ने तुम्हें खुश रहने की दुआ दी है।

is dil kee har dhadakan ka ehasaas ho tum;
tum kya jaano hamaare lie kitane khaas ho tum;
juda hokar tumane hame maut se bhee badatar saza dee hai;
phir bhee is tadapate hue dil ne tumhen khush rahane kee dua dee hai.


Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 5]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *