Na Dard Hua Seene men


ना दर्द हुआ सीने में, ना माथे पे शिकन आयी,
इस बार जो दिल टूटा तो बस चेहरे पे मुस्कान आयी।

na dard hua seene mein, na maathe pe shikan aayee,
is baar jo dil toota to bas chehare pe muskaan aayee.

Dard shayari

दर्द काफी है बेखुदी के लिए,
मौत काफी है ज़िन्दगी के लिए,
कौन मरता है किसी के लिए,
हम तो ज़िंदा है आपके लिए।
dard kaaphee hai bekhudee ke lie,
maut kaaphee hai zindagee ke lie,
kaun marata hai kisee ke lie,
ham to zinda hai aapake lie.


किसी ने यूँ ही पूछ लिया हमसे
कि दर्द की कीमत क्या है,
हमने हँसते हुए कहा,
पता नहीं कुछ अपने मुफ्त में दे गए।

kisee ne yoon hee poochh liya hamase
ki dard kee keemat kya hai,
hamane hansate hue kaha,
pata nahin kuchh apane mupht mein de gae.


दिल का दर्द हमारा भी अब
सारी हदें आर पार कर रहा है,
दिलबर भी कितना संगदिल है
एक जुर्म को बार बार कर रहा है।

dil ka dard hamaara bhee ab
saaree haden aar paar kar raha hai,
dilabar bhee kitana sangadil hai
ek jurm ko baar baar kar raha hai.


मेरे शेर समझने के लिए जरा दिल में दर्द चाहिए,
अगर समझ ना आये तो दर्द का मतलब भी बता सकता हूँ।

mere sher samajhane ke lie jara dil mein dard chaahie,
agar samajh na aaye to dard ka matalab bhee bata sakata hoon.



Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *