Ishq shayari, Izahaar-E-ishq karo

इज़हार-ए-इश्क करो उससे, जो हक़दार हो इसका,
बड़ी नायाब शय है ये इसे ज़ाया नहीं करते।
izahaar-e-ishk karo usase, jo haqadaar ho isaka,
badee naayaab shay hai ye ise zaaya nahin karate.

जरा देखो तो ये दरवाजे पर दस्तक किसने दी है,
अगर ‘इश्क’ हो तो कहना, अब दिल यहाँ नही रहता।
jara dekho to ye daravaaje par dastak kisane dee hai,
agar ishk ho to kahana, ab dil yahaan nahee rahata.

Read More
Gila shikwa

Gila shikwa shayari, Mujhe sata ke vo

जाने किस बात की उनको शिकायत है मुझसे,
नाम तक जिनका नहीं मेरे अफ़साने में।
jaane kis baat kee unako shikaayat hai mujhase,
naam tak jinaka nahin mere afasaane mein

तकदीर ने जैसे चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत सभल कर चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने यकीन तोड़ा तो किसी ने हमारा दिल,
और लोगों को लगता है बदल गए हम।
takadeer ne jaise chaaha vaise dhal gae ham,
bahut sabhal kar chale phir bhee phisal gae ham,
kisee ne yakeen toda to kisee ne hamaara dil,
aur logon ko lagata hai badal gae ham.

Read More

Gila shikwa shayari, Abhi myaan me talwar

मैं शिकवा करूँ भी तो किस से करूँ,
अपना ही मुकद्दर है अपनी ही लकीरें हैं।
main shikava karoon bhee to kis se karoon,
apana hee mukaddar hai apanee hee lakeeren hain.

कोई मिला ही नहीं
जिसको सौपते मोशिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू,
ख्याल का मौसम।
koee mila hee nahin
jisako saupate moshin,
ham apane khvaab kee khushaboo,
khyaal ka mausam.

Read More

Gila shikwa shayari, Ye mat kahna ke

मत पूछ शीशे से उसके टूटने कि वजह,
उसने भी किसी पत्थर को अपना समझा होगा।
mat poochh sheeshe se usake tootane ki vajah,
usane bhee kisee patthar ko apana samajha hoga.

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बरबाद हो गए हम उनके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता।
dard hai dil mein par isaka ehasaas nahin hota,
rota hai dil jab vo paas nahin hota,
barabaad ho gae ham unake pyaar mein,
aur vo kahate hain is tarah pyaar nahin hota.

Read More

Intezaar shayari, Tadapti hai aaj bhi rooh

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
vo rukhsat huee to aankh milaakar nahin gaee,
vo kyon gaee yah bataakar nahin gaee,
lagata hai vaapis abhee laut aaegee,
vo jaate hue chiraag bujhaakar nahin gaee.

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।
Tadapatee hai aaj bhee rooh aadhee raat ko,
nikal padate hain aankh se aansoo aadhee raat ko,
intazaar mein tere varshon beet gae sanam mere,
dil ko hai aas aaegee too aadhee raat ko.

Read More