Intezaar shayari, Tadapti hai aaj bhi rooh

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।
vo rukhsat huee to aankh milaakar nahin gaee,
vo kyon gaee yah bataakar nahin gaee,
lagata hai vaapis abhee laut aaegee,
vo jaate hue chiraag bujhaakar nahin gaee.

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।
Tadapatee hai aaj bhee rooh aadhee raat ko,
nikal padate hain aankh se aansoo aadhee raat ko,
intazaar mein tere varshon beet gae sanam mere,
dil ko hai aas aaegee too aadhee raat ko.

Read More

Intezaar shayari, Uss nazar ko mat dekho

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।
bhale hee raah chalaton ka daaman thaam le,
magar mere pyaar ko bhee too pahachaan le,
kitana intazaar kiya hai tere ishq mein,
zara yah dil kee betaabee too bhee jaan le.

मोहब्बत का इम्तिहान आसान नहीं,
प्यार सिर्फ पाने का नाम नहीं,
मुद्दतें बीत जाती है किसी के इंतज़ार में,
यह सिर्फ पल दो पल का काम नहीं।
mohabbat ka imtihaan aasaan nahin,
pyaar sirph paane ka naam nahin,
muddaten beet jaatee hai kisee ke intazaar mein,
yah sirph pal do pal ka kaam nahin

उस नज़र को मत देखो,
जो आपको देखने से इनकार करती है,
दुनियां की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ आपका इंतजार करती है।
us nazar ko mat dekho,
jo aapako dekhane se inakaar karatee hai,
duniyaan kee bheed mein us nazar ko dekho,
jo sirph aapaka intajaar karatee hai.

Read More

Intezaar shayari, Nazron ko teri mohabbat se

तुम लौट के आओगे हम से मिलने,
रोज दिल को बहलाने की आदत हो गयी,
तेरे वादे पर क्या भरोसा किया,
हर शाम तेरा इंतज़ार करने की आदत हो गयी।
tum laut ke aaoge ham se milane,
roj dil ko bahalaane kee aadat ho gayee,
tere vaade par kya bharosa kiya,
har shaam tera intazaar karane kee aadat ho gayee.

नज़रों को तेरी मोहब्बत से इंकार नहीं है,
अब मुझे किसी का इंतजार नहीं है,
खामोश अगर हूँ ये अंदाज है मेरा,
मगर तुम ये न समझना कि मुझे प्यार नहीं है।
nazaron ko teree mohabbat se inkaar nahin hai,
ab mujhe kisee ka intajaar nahin hai,
khaamosh agar hoon ye andaaj hai mera,
magar tum ye na samajhana ki mujhe pyaar nahin hai.

Read More

Intezaar shayari, Dil mein intezaar ki laqeer

दिल में इंतज़ार की लकीर छोड़ जायेंगे,
आँखों में यादों की नमी छोड़ जायेंगे,
ढूंढ़ते फिरोगे हमें हर जगह एक दिन,
ज़िन्दगी में ऐसी अपनी कमी छोड़ जायेंगे।
dil mein intazaar kee lakeer chhod jaayenge,
aankhon mein yaadon kee namee chhod jaayenge,
dhoondhate phiroge hamen har jagah ek din,
zindagee mein aisee apanee kamee chhod jaayenge.

कोई क्यों मेरा इंतज़ार करेगा,
अपनी जिंदगी मेरे लिए बेकार करेगा,
हम कौन से, किसी के लिए ख़ास हैं,
क्या सोचकर कोई हमें याद करेगा।
koee kyon mera intazaar karega,
apanee jindagee mere lie bekaar karega,
ham kaun se, kisee ke lie khaas hain,
kya sochakar koee hamen yaad karega.

Read More

Intezaar shayari, unka wada hai

ख़्वाबों में जीने की जब आदत पड़ जाती है,
हक़ीक़त की दुनिया तब बे-रंग नज़र आती है,
कोई इंतज़ार करता है मोहब्बत का,
तो किसी की मोहब्बत इंतज़ार बन जाती है।
khvaabon mein jeene kee jab aadat pad jaatee hai,
haqeeqat kee duniya tab be-rang nazar aatee hai,
koee intazaar karata hai mohabbat ka,
to kisee kee mohabbat intazaar ban jaatee hai.

नादान इनकी बातो का एतबार ना कर,
भूलकर भी इन जालिमो से प्यार ना कर,
वो क़यामत तक तेरे पास ना आयेंगे,
इनके आने का तू इन्तजार ना कर।
naadaan inakee baato ka etabaar na kar,
bhoolakar bhee in jaalimo se pyaar na kar,
vo qayaamat tak tere paas na aayenge,
inake aane ka too intajaar na kar.

Read More