Yaad shayari, Vo zindagi hi kya

अकेलेपन का इलाज़ होती हैं यादें,
बहुत ही हसीन सी होती हैं यादें,
यूँ तो बोलने को कुछ भी नहीं हैं,
पर माने तो अपना ही साया हैं यादें।

akelepan ka ilaaz hotee hain yaaden,
bahut hee haseen see hotee hain yaaden,
yoon to bolane ko kuchh bhee nahin hain,
par maane to apana hee saaya hain yaaden.

वो जिंदगी ही क्या जिसमें मोहब्बत नहीं,
वो मोहब्बत ही क्या जिसमें यादें नहीं,
वो यादें ही क्या जिसमें तुम नहीं,
और वो तुम ही क्या जिसके साथ हम नहीं।

vo jindagee hee kya jisamen mohabbat nahin,
vo mohabbat hee kya jisamen yaaden nahin,
vo yaaden hee kya jisamen tum nahin,
aur vo tum hee kya jisake saath ham nahin


अजीब लोगों का बसेरा है तेरे शहर में,
ग़ुरूर में मिट जाते हैं पर याद नहीं करते।

ajeeb logon ka basera hai tere shahar mein,
guroor mein mit jaate hain par yaad nahin karate.


तुम्हारी याद के फूलो को मुरझाने नहीं देंगे हम,
हमने अपनी आँखे रखी हैं उसे पानी देने के लिए।

tumhaaree yaad ke phoolo ko murajhaane nahin denge ham,
hamane apanee aankhe rakhee hain use paanee dene ke lie.





Click to rate this post!
[Total: 1 Average: 5]

About MUSAPHIR

Shayari from Heart...

View all posts by MUSAPHIR →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *